गुलाम वंश (कुतुबुद्दीन ऐबक) इतिहास भाग 38- kutubuddin aibak- AUDIO NOTES IN HINDI

2990
4

ऑडियो सुनने से पूर्व सभी तथ्यों को एक बार पढ लें, यहाँ विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में अक्सर पूछे जाने वाले तथ्यों को दिया गया है आगे की पोस्ट में आपको बहुविकल्पीय प्रश्न भी पढ्ने को मिलेंगे तथा ऑडियो में और भी विस्तार से तथ्य दिये गये हैं सभी AUDIOS को सामान्य बोलचाल की भाषा तथा बातचीत के लहजे में बनाने का प्रयास किया गया है ताकि समझने में आसानी हो

गुलाम वंश की स्थापना कब और कैसे हुई

  • दिल्ली सल्तनत का पहला शासक कुतुबुद्दीन ऐबक था ऐबक का अर्थ होता है- चंद्रमुखी
  • 1206 ई0 में कुतुबुद्दीन ऐबक के द्वारा गुलामवंश की स्थापना हुई
  • कुतुबुद्दीन ऐबक का शासन काल सिर्फ चार वर्ष तक चला
  • कुतुबुद्दीन ऐबक मुहम्मद गौरी का गुलाम था

यहाँ बनाई ऐबक ने अपनी राजधानी

  • कुतुबुद्दीन ऐबक ने मुहम्मद गौरी की मृत्यु के बाद स्वयं को लाहौर में एक स्वत्रंत शासक घोषित किया तथा उसने अपनी राजधानी “लाहौर” में बनायी
  • कुतुबुद्दीन ऐबक का राज्याभिषेक 24 जून 1206 ई0 में लाहौर में हुआ
  • कुतुबुद्दीन ऐबक ने बाद में दिल्ली को अपनी राजधानी बनाया तथा दिल्ली सल्तनत की स्थापना की

कुतुबुद्दीन की उपाधियाँ

  • कुतुबुद्दीन ऐबक ने सिंहासनारुढ होते समय ‘मलिक’ एवं ‘सिपहसालार’ की उपाधियाँ धारण की
  • कुतुबुद्दीन ऐबक को कुरान खाँ कहा जाता था क्योंकि वह कुरान का सुरीला पाठ करता था
  • ऐबक को अपनी उदारता व दानी प्रवृत्ति के कारण ‘लाखबख्श’ (लाखों का दानी) कहा गया
  • फरिश्ता के अनुसार कुतुबुद्दीन ऐबक के समय किसी भी दानशील व्यक्ति को ऐबक की उपाधि दी जाती थी

कुतुबुद्दीन ऐबक ने किसका निर्माण कराया

  • कुतुबुद्दीन ने दिल्ली में ‘कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद’ तथा अजमेर में ‘अढाई दिन का झोंपडा’ निर्मित करवाया
  • ऐबक ने दिल्ली में स्थित चौहान कालीन ‘किला-ए-रायपिथौर’ नामक दुर्ग के निकट एक शहर का निर्माण कराया जिसे दिल्ली के सात शहरों में पहला शहर कहा जाता है

इनकी याद में बनवायी कुतुबमीनार

  • कुतुबुद्दीन ऐबक ने दिल्ली के प्रसिध्द् चिश्ती संत “शेख कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी” की याद में कुतुबमीनार का निर्माण कराया

कुतुबुद्दीन के दरबार में कौन-कौन से विद्दान रहते थे

  • ऐबक के दरबार में हसन निजामी और फखरुद्दीन आदि विद्वानों का निवास था हसन निजामी की रचना “ताज-उल-मासिर” है
  • कुतुबुद्दीन ने इल्तुतमिश को 1197 ई0 के अन्हिलवाड के युध्द के दौरान खरीदा
  • 1210 ई0 में लाहौर में चौगाना(पोलो) खेलते समय घोडे से गिरने के कारण कुतुबुद्दीन की मृत्यु हो गयी
  • ऐबक को लाहौर में दफनाया गया तथा कुतुबुद्दीन ऐबक का मकबरा भी लाहौर में स्थित है
  • कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु के बाद उसके पुत्र ‘आरामशाह’ को शासक घोषित किया गया
  • आरामशाह को बंदी बनाकर इल्तुतमिश ने इसकी हत्या करा दी और स्वयं शासक बन गया

ऑडियो नोट्स सुनें

Download File

tags: ghulam vansh, kutubuddin aibak history in hindi, kutub minar history, kuwwat ul islam, adhai din ka jhopda, kila e raipithora, hasan nizami, kutubuddin aibak death
SHARE

4 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here