मुहम्मद गौरी (इतिहास भाग 37) muhammad gauri AUDIO NOTES IN HINDI



मुहम्मद गौरी 

  • मुहम्मद गौरी का पूरा नाम मुइनुददीन मुहम्मद बिन साम गौरे था 
  • मोहम्मद गौरी ने 1176 ई मे गजनी का सिंघासन सम्हाला 

पहला आक्रमण 

  • इसका पहला आक्रमण 1175 में मुल्तान पर हुआ 

दूसरा आक्रमण 

  • दूसरा आक्रमण पाटन (गुजरात) में हुआ 
  • इसने 1176 ई में ऊच्छ पर आक्रमण करके भट्टी राजपूतों का राज्य छीन लिया 

गौरी ही था तुर्क राज्य संस्थापक 

  • मोहम्मद गौरी ने भारत पर तुर्क राज्य की स्थापना की 
  • मोहम्मद गौरी के समय मे ही तराईन के युद्ध हुए 

गौरी को किसने पराजित किया? 

  • तराईन का प्रथम युद्ध 1191 ई में मोहम्मद गौरी तथा दिल्ली अजमेर राज्य के शासक पृथ्वीराज चौहान के बीच हुआ, इस युद्ध मे गौरी कि बुरी हार हुई 

इस युद्ध में हुई पृथ्वीराज की मृत्यु 

  • तराईन के दूसरे युद्ध (1192 ई0) में गौरी ने पृथ्वी राज को बुरी तरह से पराजित किया तथा पृथ्वीराज की मृत्यु हो गयी 
  • मोहम्मद गौरी ने एक और शक्तिशाली राजपूत शासक जयचंद को 1194 ई0 के चंदावर के युद्ध मे पराजित किया 
  • कुतुबुद्दीन ऐबक जो कि गौरी का सेनापति था उसने 1197 ई0 में गुजरात, कोटो बूंदी, सिरोही, उज्जैन, कालिंजर आदि को जीत लिया 
  • 1197 ई0 में ही गौरी के एक और सैनिक जनरल ने इख्तियारुद्दीन मुहम्मद बिन बख्तियार खिलजी ने बिहार को तुर्की साम्रज्य में मिला लिया 
  • इख्तियारुद्दीन मुहम्मद बिन बख्तियार खिलजी ने तत्कालीन राजधानी ओदन्तपुरी पर कब्जा कर लिया 

ये था जिसने नालंदा को नष्ट किया 

  • इख्तियारुद्दीन मुहम्मद बिन बख्तियार खिलजी ही नालंदा तथा विक्रमशिला विश्वविद्यालयों को नष्ट कर दिया था 

ये संत आये थे गौरी के साथ भारत 

  • गौरी के साथ प्रसिध्द संत शेख मोईनुद्दीन चिश्ती भारत आये थे, 

क्या थी मुहम्मद गौरी के सिक्कों की विशेषता 

  • गौरी के सिक्कों की विशिष्टता यह थी कि इनके एक ओर कलमा खुदा रहता था तथा दुसरी ओर लछ्मी की आकृति अंकित रहती थी 
  • मुहम्मद गौरीने अपने अमीरों को भारतीय क्षेत्रों का शासक बनाया 

ये था गौरी का अंतिम मुकाबला 

  • मुहम्मद गौरी का अंतिम मुकाबला 1205 ई0 में खोखरों से हुआ 

मृत्यु कैसे हुई 

  • गजनी वापस जाते समय मार्ग में दमयक नामक स्थान पर 13 मार्च 1206 को उसकी हत्या कर दी गई 

कौन से वंश की नींव डाली गयी गौरी की मृत्यु के पश्चात

  • 1206 ई0 में मुहम्मद गौरी की मृत्यु के पश्चात ऐबक ने भारत में नए वंश की नींव डाली ,जिसे गुलाम वंश कहा गया

ऑडियो नोट्स सुनें



 यदि आपको हिंदी ऑडियो नोट्स पसंद आते हैं तो हमे subscribe कीजिये तथा हमारा फेसबुक पेज like कीजिये और यदि आपको कोई कमी लगती है तो भी हमें अपने कमेंट्स या सन्देश के माध्यम से अवगत कराएं  हम अपनी गुणवत्ता में लगातार सुधार कर रहे हैं परंतु आपके सुझाव आवश्यक हैं 

tags: muhammad gauri/ghori history in hindi, prithviraj chauhan, nalanda university, bakhtiyar khilji, muhammad ghori coins, 

Post a Comment

कमेंट करते समय कृपया अभद्र भाषा का प्रयोग ना करें, ये ब्लाग ज्ञान वर्धन के लिये है अत: अनुरोध है कि शालीन भाषा का प्रयोग करें तथा हमें अपने विचारों से अवगत करायें