प्रागैतिहासिक काल क्विज़ भाग 1



पहिए का आविष्कार कब हुआ?
नवपाषाण काल में
मध्यपाषाण काल में
पुरापाषाण काल में
लौह काल में

2. सर्वप्रथम भारत की प्रथम पुरापाषाणकालीन संस्कृति की खोज किसने की थी?
रॉबर्ट ब्रूस फूट
कार्लाइल
डी टेरा
सर जॉन लुबॉक

3. वृहद पाषाण काल स्मारकों की पहचान की गई
सन्यासी गुफाओं के रुप में
मृतक को दफनाने के स्थान के रुप में
मंदिर के रुप में
उपरोक्त में से कोई नहीं

4.  निम्न में से कौन सा उपकरण मध्य पुरापाषाण काल से सम्बन्धित नहीं है
 क्रोड उपकरण
 फलक
 बेधनी
खुरचनी

5. भारतीय महाद्वीप में कृषि के प्राचींतम साक्ष्य प्राप्त हुए
 कोल्डीहवा से
 लुहारदेव से
 मेहरगढ से
 टोकवा से

6. खाद्यन्नों की कृषि सर्वप्रथम कब प्रारम्भ हुई 
 नव पाषाण काल में
 मध्यपाषाण काल में
 पुरापाषाण काल में
 प्रोटो एतिहासिक काल में

7. निम्नलिखित में से किस एक पुरा स्थल से पाषाण संस्कृति से हडप्पा तक के सांस्कृतिक अवशेष प्राप्त हुए हैं 
 आमरी
 मेहरगढ
 कोटदीजी
 कालीबंगा

8. निम्नलिखित में से किस एक संस्कृति ने अपने मृद भांडो को चित्रित किया
 मध्य पाषाण काल
 ताम्र पाषाण काल
 नव पाषण काल
 लौह युग

9.  राख का टीला निम्नलिखित किस नवपाषाणकाल स्थल से सम्बंधित है
 बुदिहाल
 संगन कल्लू
कोलडिहवा
 बह्मागिरी

10. भारत में किस शैलाश्रय से सर्वाधिक चित्र प्राप्त हुए?
घघरिया
भीमबेटका
लेखाहिया
 आदमगढ

11. नवदाटोली किस राज्य में अवस्थित है
गुजरात
महाराष्ट्र
छ्त्तीसगढ
 मध्य प्रदेश

12. भारत में मानव का सर्वप्रथम साक्ष्य कहाँ मिला मिला है
नीलगीरी पहाडियाँ
शिवालिक पहाडियाँ
नल्लमाला पहाडियाँ
 नर्मदा घाटी

13.  नवपाषाण कालीन गर्त निवासों के अवशेष कहाँ से मिले थे
1. बुर्जहोम  2. गुफ्कराल  3. कुचई  4. महागढा
 1 और 4
 2 और 3
 3 और 4
 1 और 2

14. मानव द्वरा  सर्वप्रथम प्रयुक्त अनाज था  
 गेहूँ
 चावल
 जौ
 बाजरा

15. किस स्थल से मानव कंकाल के सथ कुत्ते का कंकाल भी शवाधान से प्राप्त हुआ है 
 ब्रह्मगिरि
 बुर्जहोम
 चिरांद
 मास्की

आपने कुल अंक प्राप्‍त किये=
उत्‍तरमाला से अपने उत्‍तरों का मिलान कीजिये

शीघ्र ही सभी विषयों के अध्यायवार क्विज़ उपलब्ध होंगे, समय पर UPDATE प्राप्त करने के लिये SUBSCRIBE करना ना भूलें

tags: ancient history questions in hindi, ssc cgl, upsc, uppsc, quiz

Post a Comment

कमेंट करते समय कृपया अभद्र भाषा का प्रयोग ना करें, ये ब्लाग ज्ञान वर्धन के लिये है अत: अनुरोध है कि शालीन भाषा का प्रयोग करें तथा हमें अपने विचारों से अवगत करायें