1. बहलोल लोदी की मृत्यु के बाद उसका पुत्र सिकंदर लोदी दिल्ली की गद्दी पर बैठा
  2. इसका मूल नाम निजाम खां था व इसने सिकंदर लोदी की उपाधि ली थी
  3. सिकंदर लोदी वंश का सर्वश्रेष्ठ शासक था व्यक्तित्व को सुंदर बनाये रखने के लिए वह दाढी नही रखता था
  4. सिकंदर लोदी का उपनाम गुलरुखी था इस नाम से वह फारसी में कविताएं लिखा करता था
  5. सिकंदर लोदी के काल में ही संगीत की पुस्तक ‘लज्जते सिकंदरी’ की रचना हुई, यह शहनाई बजने पर झूम उठता था
  6. 1504 ई0 में उसने राजस्थान के शासको पर अपना अधिकार सुरक्षित रखने तथा व्यापारिक मार्गो पर नियंत्रण स्थापित करने के उद्देश्य से आगरा नगर की स्थापना की 
  7. वहाम पर उसने एक किले का भी निर्माण कराया जो बादलगढ का किला के नाम से मशहूर था 
  8. 1506 ई0 में सिकंदर लोदी ने आगरा को अपनी राजधानी बनाया
  9. यह भूमि में गढे खजाने में कोई हिस्सा नही लेता था 
  10. सिकंदर के समय में ही नाप के लिए पैमाना गजे सिकंदरी प्रारम्भ किया गया जो प्राय; 30 इंच का होता था
  11. सिकंदर ने मुहर्रम और ताजिये निकलना बंद करा दिया और मस्जिदों को सरकारी संस्था के रूप में विकसित करने का प्रयास किया और उन्हे शिक्षा का केंद्र बनाया गया
  12. सिकंदर लोदी के स्वयं के आदेश पर एक आयुर्वेदिक ग्रंथ का फारसी में अनुवाद किया गया जिसका नाम फरंहगे सिकंदरी रखा गया
  13. यह धार्मिक दृष्टि से असहिष्णु शासक था यह सभी धर्मो से समभाव नहीं रखता था
  14. इसने ब्राह्मणो से जजिया लेना पुन: प्रारम्भ कर दिया इसने एक बोधन नाम के ब्राह्मण को इसलिए फांसी दे दी क्योकि उसका कहना था कि हिंदू और मुस्लिम धर्म समान रूप से पवित्र है
  15. सिकंदर लोदी ने अनाज पर जकात लेना बंद कर दिया
  16. सिकंदर लोदी की मृत्यु 21 नबम्बर 1517 ई0 को आगरा में हुई  

ऑडियो नोट्स सुनें

tags: sinkandar lodi, lodi vansh history in hindi, who established agra, audio notes in hindi, medieval history

Post a Comment

कमेंट करते समय कृपया अभद्र भाषा का प्रयोग ना करें, ये ब्लाग ज्ञान वर्धन के लिये है अत: अनुरोध है कि शालीन भाषा का प्रयोग करें तथा हमें अपने विचारों से अवगत करायें