[Download]रसायन विज्ञान के महत्वपूर्ण तथ्य भाग- 2 (Free PDF eBook)

35726
5
[Download]रसायन विज्ञान के महत्वपूर्ण तथ्य भाग- 2 (Free PDF eBook)

101. पैटंोलियम परिशोधन के पश्चात पैराफिन प्राप्त होता है। जिसे व्यापारिक वैसलीन भी कहा जाता है।

102. हाइडंोकार्बन का प्राकृतिक स्त्रोत कच्चा तेल हैै।
103. तडि.चालक लोहे से निर्मित होते है।
105. रम नामक शराब शीरा से बनायी जाती है।
106. कैप्सूल का आवरण स्टार्च का बना होता है।
107. भारत में विकसित स्टेनलैस स्टील में मैंगनीज और क्रोमियम होता है।
108. क्वार्टज कैल्सियम सिलिकेट का बना होता है इसमें सिलिकाॅन और आॅक्सीजन भी पाये जाते है।
109. प्रथम विश्व युद्व में मस्टर्ड गैस का प्रयोग एक रासायनिक आयुध के रूप में किया गया था ।
110. हाइडंोजन सबसे अच्छा ईधन है क्याकि इसका उष्मीय मान सर्वाधिक होता है एवं इसका अवशेष भी सबसे कम होता है परिणामस्वरूप ये सबसे कम पर्यावरणीय प्रदूषण करता है।
111. क्लोरोपिक्रिन को अश्रु गैस कहते है।
112. अम्लीय बर्षा के लिए सल्फर डाईआॅक्साइड गैस उत्तरदायी होती है।
113. वायु को सबसे अधिक प्रदूषित कार्बनमोनोक्साइड करता है कार्बनमोनोक्साइड हीमोग्लोबिन के साथ मिलकर उसे आॅक्सीजन अवशोषण के अयोग्य बनाती है। इसलिये इसका वातावरण में इसका पाया जाना खतरनाक होता है।
114. सभी गैसें निम्न दाब और उच्च ताप पर आदर्श गैस के रूप में व्यवहार करती है। 115. अधूरे प्रज्वलन के कारण मोटर कार एवं सिगरेट से निकलने वाली रंगहीन गैस कार्बनमोनेाआक्साइड होती है।
116. सेप्टिक टैंक से निकलने वाली गैसेां के मिश्रण में मुख्यतः अमोनिया गैस होती है। 117. तापमान बढाने से द्रवों की श्यानता घटती है एवं तापमान बढाने से गैसों की श्यानता बढती है।
118. ग्लोबल वार्मिंग के लिए कार्बनडाइआॅक्साइड गैस अधिक जिम्मेदार है।
119. शीतल पेयों , जैसे कोला में , पर्याप्त मात्रा कैफ ीन की होती है।
120. ध्वनि के पुनरूत्पाद के लिए एक सीडी आडियो प्लेयर में लेसर बीम को प्रयोग किया जाता है।
121. एक साधारण बिजली के बल्ब का अपेक्षाक्रत अल्पजीवन होता है क्यांेकि फिलामेंट का तार एकसमान नही होता तथा बल्ब पूर्ण रूप से निर्वातित नही किया जा सकता ।
122. एटंोपीन औषधि का उपयोग ह॰य की तकलीफ कम करने मंे किया जाता है, ईथर का प्रयोग स्थानीयसंज्ञाहरण में प्रयोग होता है , नाइटोग्लिसीरीन तार विस्फारण में प्रयोग की जाती है, पाइरेथ्रियन का उपयोग मच्छरों के नियन्त्रण के लिए किया जाता है । 123. काॅच पर हीरे तथा हाइडंोक्लोरिक अम्ल से खरोंचा या लिखा जा सकता है। 124. बुलेट प्रूफ पदार्थ बनाने के लिए पाॅलिकार्बोनेटस के बहुलक प्रयुक्त होते है।
125. बादलों के वायुमण्डल में तैरने का कारण उनका कम घनत्व का होना है।
126. ठण्डे देशों में पारे के स्थान पर एल्कोहल को तापमापी द्रव के रूप में वरियता दी जाती है क्योकि एल्कोहल का हिमांक पारे से कम होता है।
127. कैल्सियम कार्बाेनेट दन्त पेस्ट का एक अवयव होता है।
128. प्रकाश-रसायनी धूम – कोहरे के बनने के समय नाइटंोजन आॅक्साइड उत्पन्न होती है।
129. कैल्सियम सल्फेट की उपस्थिति जल को कठोर बना देती है और यह पीने योग्य नही होता है।
130. क्लोरोफोर्म गैस प्रकाश की उपस्थिति में जहरीली फाॅस्जीन गैस बन जाती है। 131. रक्त का पी0एच0 मान 7.4 होता है ।
132. रसायन प्रयोगशाला में उपयोग में लाया जाने वाला लिटमस शैक से प्राप्त होता है। 133. यूरिया – अमोनियम नाइटंेट – अमोनियम क्लोराइड – अमोनियम सल्फेट में नाइटंोजन की मात्रा घटते क्रम में है।
134. पोर्टलैण्ड सीमंेट का अविष्कार जोसफ अस्पडीन ने किया था ।
135. रबड को कठोर बनाने के लिए उसमें कार्बन मिलाया जाता है। जिससे टयूब टायर बनाये जाते है।
136. बेरियम तथा स्टंाॅन्शियम प्रकृति में मुक्त रूप में नही पाए जाते है।
137. सोडियम क्लोराइड की उपस्थिति में प्लास्टर आॅफ पेरिस की स्थापन दर में वृद्वि होती है।
138. सीमंेट में जिप्सम का योग उसकी स्थापन दर को मंद करने के लिए किया जाता है।
139. नियोप्रीन जोकि एक संश्लिष्ट रबड है जो टू-क्लोरोब्यूटाडीन से बनती है।
140. सिलिकन चतु-संयोजकता रखता है।
141. लाल फास्फोरस एक मोमी ठोस है जबकि सफेद फास्फोरस अक्रिस्टलीय है लाल फास्फोरस गन्धहीन होता है जबकि सफेद फास्फोरस लहसुन गंध देता है।
142. अमोनियम सल्फेट एक उर्वरक है, सोडियम परआयोडेट एक आक्सीकारक है, मैग्नीज डाइआक्साॅइड एक शुष्क सेल है।
143. सिंदूर में पारा मिला होता है , चिली साल्टपीटर सोडियम से सम्बधित है, फ्लोरस्पार कैल्सियम से सम्बधित है, कैलामाइन जिंक से सम्बधित है।
144. हाइडंोजन ब्रम्हाण्ड में प्रचुरता से पाया जाने वाला तत्व है , आॅक्सीजन पृथ्वी में प्रचुरता से पाया जाने वाला तत्व है नाइटंोजन वायुमण्डल में प्रचुरता से पाया जाने वाला तत्व है।
145. नाइटंोजन वनस्पति एवं जन्तु प्रोटीन का मुख्य घटक है ।
146. क्रिस्टलीकरण के द्वारा ठोस का शुद्वीकरण करके पुनः ठोस बना लिया जाता है। , उध्र्वपातन के द्वारा कपूर को अलग किया जाता है, आसवन विधी के द्वारा द्रव का शुद्वीकरण किया जाता है, क्रोमेटोग्राफी में अधिशोषण प्रक्रिया बनायी जाती है।
147. मैग्निशियम का अयस्क डोलोमाइट है तथा कैल्सियम का अयस्क लाइमस्टोन है। 148. आॅक्सीजन की अनुपस्थिति में होने वाली क्रिया को पायरोलाइसिस कहते है। 149. ठोस ईधन का गैसीय ऊर्जा संवाहक में स्थानान्तरण को गैसीयकरण कहते है। 150. ठोस कार्बनिक वज्र्य का द्रव ईधन में सीधा स्थानान्तरण बायोगैस कहलाता है। 151. आॅक्सीजन की उपस्थिति में होने वाली क्रिया दहन कहलाती है।
152. वायुमण्डल में नाइटंोजन – आक्सीजन – आर्गन – कार्बनडाईआक्साइड गैसें इस क्रम में पायी जाती है।
153. नोबल गैसंे एक परमाणवीय रंगहीन एवं गन्धहीन तथा अत्यन्त रासायनिक क्रियाशील होती है।
154. कपडें धोने की प्रक्रिया में साबुन जल की धुलाई क्षमता में वृद्वि करता है।
155. जाॅन डाल्टन ने परमाणु सिद्वान्त का प्रतिपादन किया था ।
156. गंधक अम्ल का प्रयोग उर्वरकों के निमार्ण में, रंग बनाने वाले पदार्थो के निमार्ण में, वर्णक एवं पेंटस के निमार्ण में, बैटरियों के निमार्ण में होता है।
157. शरीर में सोडियम तथा पोटैशियम आयनों की भूमिका परासरण दाब केा संतुलित करना है।
158. ग्रेफाइट विद्युत का सुचालक एवं कार्बन का अपररूप है यह मन्दक के रूप में भी प्रयुक्त होता है।
159. यूरेनियम-235 विखण्डनीय पदार्थ के रूप में प्रयुक्त होता है।
160. एन्जाइम कार्बोहाइडंेट होते है एवं जैव रासायनिक उत्प्रेरक है ।
161. लाइपेस एन्जाइम टंांसग्लिसराइडों को वसा अम्लों तथा ग्लिसरोल में अपघटित कर देता है।
162. बिटामिन बी12 में परमाणु धातु उपस्थित होती है, जिसे केाबाल्ट कहते है।
163. साबून को बनाने के लिए कास्टिक सोडा को अलसी के तेल के साथ गर्म किया जाता है।
164. साधारण नमक एक ऐसा पदार्थ है जो पिघली हुई अवस्था में विद्युत धारा का चालन कर सकता है।
165. फास्फोरस का सबसे अधिक अभिक्रियाशील रूप पीला फास्फोरस है जो हवा में स्वतः ही जल उठता है इसलिए इसे जल में डुबो कर रखते है।
166. अक्रिय गैसों की संयोजकता शून्य होती है, ये एक – परमाणुक होती है
167. सोडियम तथा एल्यूमीनिय के जलयोजित सिलिकेटों का रासायनिक नाम परम्यूटिट होता है।
168. गोल्ड सबसे अधिक आद्यातवर्धनीय धातु है ।
169. प्रयोगशाला में प्रथम संश्लेषित कार्बनिक यौगिक यूरिया है।
170. साडियम पामीटेड एक साबून है, गैलेना एक अयस्क है, एन0पी0के0 एक उर्वरक है, सेलूलोज एक प्राकृतिक पाॅलीमर है ।
171. जल का क्वथनांक उसके समान आकार तथा अणुभार के अन्य द्रवों की अपेक्षा अधिक होता है क्योकि वह अन्तरा-आणविक हाइडंोजन बन्ध उपस्थित होता है।
172. रबड के टायरों में पूरक फिलर के रूप में कार्बन ब्लैक प्रयुक्त होता है।
173. हमारे पृथ्वी का भू-भाग ग्रीन हाउस के नाभिकीय परिक्षण के प्रभाव से गर्म होता है।
174. क्रैकिंग पैटंोलियम से सम्बन्धित हंै, प्रगलन काॅपर से सम्बन्धित है, हाइडंोजनीकरण खाद्य वसा से सम्बन्धित है।
175. दूध पायस होता है।
176. केन्द्रिय औष् ाधि शोध संस्थान लखनऊ में स्थित है।
177. रासायनिक रूप से इक्षु शर्करा सुक्रोज को कहते है, शर्करा विलयन के किण्वन में कार्बनडाइआॅक्साइड गैस उत्पन्न होती है ।
178. ग्लूकोज के किण्वन में अन्त में कार्बनडाइआॅक्साइड तथा जल प्राप्त होता है। 179. उर्वरकों में क्लोरीन उपस्थित नही होता है।
180. सोने के आभूषण बनाने के लिए उसमें काॅपर मिलायी जाती है।
181. अधिकतम संख्या में यौगिक हाइडंोजन तत्व बनाता है।
182. वाटरवक्र्स के द्वारा जिस जल की आपूर्ति होती है उसे क्लोरीनीकरण के द्वारा शुद्व करते है।
183. इमली में टार्टरिक अम्ल होता है।
184. सोलर कुकर को गर्म करने वाली सूर्य की किरण को इन्फ्रारेड किरण कहते है। 185. आयरन पायराइटस केा झुठा सोना कहते है।
186. पेटंोल, ऐल्केन का मिश्रण होता है।
187. सिलिका जैल नमी को सोख लेता है, इसलिए दवाओं की बोतलों में एक छोटे पैक में सिलिका जैल भरकर रखा जाता है।
188. वह प्रक्रम जिसमें ऊष्मा परिवर्तन नही होता ,रूद्वोष्म प्रक ्रम कहलाता है। 189. किसी आदर्श गैस की आन्तरिक ऊर्जा उसके आयतन पर निर्भर करती है।
190. आवर्तसारणी में तत्वों केा बढती हुयी परमाणु संख्या में रखा गया है।
191. आधुनिक आवर्तसारणी में अधातुओं केा दाहिनी ओर रखा गया है।
192. ‘ग्रीन हाउस प्रभाव‘ यह नाम स्वाण्टे आरहीनियस ने दिया था
193. कैथोड किरणें , इलैक्टंोनों की किरण पुंज है ।
194. आरयन को सबसे शुद्व रूप पिटवाँ आयरन होता है।
195. क्लोरोफिल की संरचना में मैग्नीशियम सम्मिलित होता है ।
196. फलों के परिरक्षण के लिए चीनी का घोल प्रयोग में लाया जाता है क्योकि इससे नमी अवशोषित हो जाती है जिससे सूक्ष्म जीवों की वृद्वि रूक जाती है।
197. आर्सेनिक एक उपधातु है।
198. जिर्कोनियम एवं सिलिकन अर्धचालक हैं।
199. तत्वों के किसी वर्ग में जैसे – जैसे परमाणु भार बढता है इलैक्टंाॅन बन्धुता कम होती हैै।
200. मेथेन , ऐथेन , प्रोपेन एवं ब्यूटेन में हाइडंोकार्बन के अणुभार बढते क्रम में अवस्थित है।

Chemistry eBook PDF in Hindi डाउनलोड करने के लिये नीचे दिये गये डाउनलोड लिंक पर क्लिक करें

यदि कोई प्रश्न है तो आप कमेन्ट सेक्शन में पूछ सकते हैं |

5 COMMENTS

  1. Ek mera bhi kam kar dijiye sir ji. Aap mere email par chemistry 12 class ke ncert. Book ka pdf bhej dijiye. Hindi me. Please please sir ji

  2. सोडियम बाईकार्बोनेट के निर्माण में Nacl की क्या भूमिका है।

  3. सोडियम बाइकार्बोनेट बनाने के लिए सोडियम को समुद्र जल से क्यों नही प्राप्त किया जाता है।

  4. जिप्सम को तीव्रता से गर्म करने पर वह अभिक्रिया उभयगामी क्यों नही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here