1. Too and Very
–Too का अर्थ “more than required” आवश्यकता से अधिक होता है तथा इसका प्रयोग सामान्यत: unpleasant Adjectives के पहले किया जाता है

  • जैसे- too dull, too careless, too bad.

  • लेकिन Too …….. to पर आधारित वाक्यों में Too के बाद आवश्यकतानुसार pleasant/unpleasant Adjectives का प्रयोग किया जाता है Very का अर्थ “in a great degree” अत्यंत होता है इसका प्रयोग pleasant/unpleasant Adjectives के पहले किया जाता है


2. Too much and Much too –Too Much के बाद हमेशा Noun का प्रयोग होता है Much Too के बाद हमेशा Adjective का प्रयोग होता है

3. Very and Much –
(i) Very का प्रयोग Positive Degree के साथ होता है तथा Much का प्रयोग Comparative Degree के साथ होता है,

  • जैसे- very good, much better.


(ii) Very का प्रयोग Present participle के पहले होता है तथा much का प्रयोग Past participle के साथ होता है


  • जैसे- very interesting, much interested.


  • लेकिन, Very tired, very delighted, very contented का प्रयोग होता है


4. Fairly and Rather –
(i) Fairly का प्रयोग Positive Degree के साथ होता है जबकि Rather का प्रयोग Positive तथा Comparative Degree दोनो के साथ होता है

(ii) Fairly के बाद Pleasant Adjectives का प्रयोग होता है जबकि Rather के साथ सामान्यत: unpleasant Adjectives का प्रयोग किया जाता है

  • जैसे- fairly wise, rather wicked,
  • लेकिन, rather good, rather clever, rather prettyआदि का प्रयोग होता है


5. Hard and Hardly –Hard का अर्थ है ‘कडा या कठिन’ इसका प्रयोग Adjective और Adverb दोनो के रूप में होता है Hardly का अर्थ है नहीं के बराबर और इसका प्रयोग केवल Adverb के रूप में होता है

6. Late and Lately-Late का अर्थ है देर Lately जबकि का अर्थ है हाल ही में

7. Enough–
(i) Enough का प्रयोग का प्रयोग हमेशा उन शब्दों के ठीक बाद होता है जिसकी ये विशेषता बताता है
(ii) Enough के पहले हमेशा Positive Degree के Adjective या Adverb का प्रयोग होता है

8. Still and Yet –Still का प्रयोग सामान्यत: Affirmative sentences में तथा Yet का प्रयोग Negative sentences में किया जाता है

  • जैसे- She has not yet completed the work.


Post a Comment

कमेंट करते समय कृपया अभद्र भाषा का प्रयोग ना करें, ये ब्लाग ज्ञान वर्धन के लिये है अत: अनुरोध है कि शालीन भाषा का प्रयोग करें तथा हमें अपने विचारों से अवगत करायें