Dutch East India Company



ईस्ट इण्डिया कम्पनी की स्थापना 

  • 1602 ई. में डच ईस्ट इण्डिया कम्पनी की स्थापना की गई ये ड्च हॉलैण्ड के निवासी थे 

डचों की प्रथम फैक्ट्री

  •  1605 ई. में डचों ने अपनी सबसे पहली फैक्ट्री मूसलीपट्टम में स्थापित की इनकी और भी फैक्ट्रियां सूरत, कासिम बाजार, बडा नगर, पटना, बालापट्टनम, कोचीन आदि थी
  • इनके आगमन से भारत में पुर्तगालियों का व्यापार में एकाधिकार समाप्त हो गया 

डचों द्वारा निर्यात

  • ये मसाले, वस्त्र, नील, शोरा, सिल्क आदि सभी का निर्यात करते थे 

जहांगीर का फरमान

  • डचों ने पश्चिमी तट पर व्यापार करने के लिए मुगल बादशाह जहांगीरसे फरमान जारी करवाया

राहदारी से मुक्ति

  • 1642 ई. में शाहजहाँ ने पीपली से आगरा तक राहदारी से मुक्त कर दिया 

डचों के व्यापार का अंत

  • 18 वीं सदी की शुरुआत में डचों के व्यापारिक कार्य कलापों का अंत होना शुरु हो गया अंतत: 1759 में वेदरा के युध्द में अंग्रेजों द्वारा पराजित होने पर इनकी गतिविधियां पूर्णत: समाप्त हो गई 

डचों के पतन के कारण 

  • डचों के पतन के कारण थे कि मसालों के द्वीप पर बहुत अधिक ध्यान देना जो इण्डोनेशिया मे था
  • अंग्रेजों की तुलना में डचों की नौशक्ति कम थी, अत्याधिक केंद्रियकरण की नीति इनकी सत्ता काफी केंद्रियकृत थी, डचों की बिगडती हुई आर्थिक स्थिति
  • डचों ने भारत में अंग्रेजो और फ्रांसिसीयों के साथ गम्भीर प्रतियोगिता की

ऑडियो नोट्स सुनें




Post a Comment

कमेंट करते समय कृपया अभद्र भाषा का प्रयोग ना करें, ये ब्लाग ज्ञान वर्धन के लिये है अत: अनुरोध है कि शालीन भाषा का प्रयोग करें तथा हमें अपने विचारों से अवगत करायें