स्वत्रंत बंगाल राज्य की स्थापना 

  • मुगल बादशाह फरुख्शियर उसके शासन काल में 1717 ई. में मुशीद उली खाँ ने स्वत्रंत बंगाल राज्य की स्थापना की
  • 1740 ई. में खेरिया के युध्द में बिहार के नायक नाजिल अली वर्दी खाँ ने सरफराज खाँ जो कि तत्कालीन नबाब था उसको पराजित करके बंगाल का नबाब बन गया
  • अली वर्दी खाँ ने यूरोपियंस की तुलना मधुमक्खियों से की थी

बंगाल का नबाब

  • 1756 ई. में अली वर्दी खाँ की मृत्यु हो गयी उसके बाद उसकी छोटी बेटी का पुत्र सिराजुद्दौला बंगाल का नबाब बना
  • यह 1756 से 1757 तक नबाब रहा इसके अंग्रेजों से अच्छे सम्बंध नहीं थे क्योंकिअंग्रेज नबाब के विरोधियों को प्रोत्सहन देते थे और आश्रय भी देते थे
  • जब सिराजुद्दौला नबाब बना तो उसे उसकी मौसी गसीटी बेगम और उसके पुत्र शौकत जंग जो कि पूर्णिया का नबाब था और राज बल्लभ जो कि शौकत जंग का दीवान था इन सब के अतिरिक्त उसे अंग्रेजों का सामना भी करना था

 फोर्ट विलियम (Fort William)पर कब्जा 

  • सिराजुद्दौला ने 20 जून 1756 में कलकत्ता पर आक्रमण किया और फोर्ट विलियम (कलकत्ता)पर कब्जा कर लिया
  • सिराजुद्दौला कलकत्ता का प्रभार मानिक चंद्र को सौंप के शौकत जंग से निपटने के लिए स्वयं मुर्शिदाबाद चला गया
  • 14 दिसम्बर 1756 को क्लाइव के नेतृत्व में एक सेना फोर्ट विलियम पर पहुंच गयी

कलकत्ता पर अधिकार

  • नबाब जिसे अपना प्रभारी बना के गया था मानिक चंद्र अंग्रेजो ने उसे घूस देकर अपनी ओर मिला कर कलकत्ता पर अधिकार कर लिया

अली नगर संधि

  • इन परिस्थितियों में सिराजुद्दौला के सामने कोई विकल्प नहीं बचा था तो उसे 9 फरवरी 1757 को अली नगर की संधि करनी पडी
  • इस संधि के तहत अंग्रेजों को अपने पुराने अधिकार मिल गये जिससे उन्होंने कलकत्ते की किले बंदी और क्षतिपूर्ति भी वापस मिल गयी

ब्लैक होल दुर्धटना 

  • सिराजुद्दौला के काल में ब्लैक होल दुर्धटना हुयी ये युध्द की आम प्रणाली के अनुसार फोर्ट विलियम ने 20 जून 1756 को जब इस पर कब्जा किया तब 146 अंग्रेज बंदी बनाये थे
  • उस रात 18 फुट लम्बे 14 फुट 10 इंच चौडे अंधेरे कमरे में 146 लोगों को बंद कर दिया इन बंदियों में महिला और बच्चे भी थे
  • 21 जून की सुबह जब वह कोठरी खोली गयी उसमें बस 23 व्यक्ति जीवित बचे यह घटना ब्लैक होल (Black Hole) दुर्घटना कहलाती है

ऑडियो नोट्स सुनें


Modern history, Audio notes, History of Bengal,

Post a Comment

कमेंट करते समय कृपया अभद्र भाषा का प्रयोग ना करें, ये ब्लाग ज्ञान वर्धन के लिये है अत: अनुरोध है कि शालीन भाषा का प्रयोग करें तथा हमें अपने विचारों से अवगत करायें