• विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं (SSC CGL, UPSC, UPPSC ) में  पूछे गये भूगोल के तथ्यों का संग्रह(Geography Facts in Hindi)

  1. यूनानी विद्वान हिकेटियस को भूगोल का पिता कहा जाता है
  2. कृष्ण छिद्र (Black Hole) सिद्धांत का प्रतिपादन एस चंद्रशेखर ने किया था
  3. अरस्तु ने सर्वप्रथम पृथ्वी को गोलाकार माना था
  4. फ्रेडरिक रेडजेल को मानव भूगोल का पिता कहा जाता है
  5. एडकुण्डे पुस्तक कार्ल रिटर द्वारा रचित है
  6. सर्वप्रथम एनेक्सी मेंडर ने विश्व का मानचित्र मापक पर बनाया था
  7. प्रसिद्ध भौगोलिक ग्रंथ किताबुल हिंद के लेखक अलबरूनी हैं
  8. "मानव भूगोल अस्थायी पृथ्वी एवं चंचल मानव के पारस्परिक परिवर्तनशील सम्बंधों का अध्ध्ययन है" यह कथन कुसैम्पुल का है
  9. जीवन एवं मृत्यु का भूगोल ब्रिटिश भूगोल वेत्ता सर डडले स्टाम्प की कृति है
  10. हिकेटियस द्वारा सर्वप्रथम लिखित भौगोलिक पुस्तक का नाम "जैसपीरियोडियस" है
  11. इरेटोइस्थनीज ने सर्वप्रथम निवास योग्य विश्व का मानचित्र बनाया था
  12. एलियड एवं ओडिसी ग्रंथ जिनमें कि प्राचीन भौगोलिक जानकारीयों का समावेश है, इसके लेखक होमर है
  13. सभ्यता एवं जलवायु नामक पुस्तक के लेखक एलबर्ट हंटिंगटन हैं
  14. आकृति विज्ञान के जन्मदाता पेशेल को माना जाता है
  15. मानव भूगोल को मानव पारिस्थितिकी के रूप में एच एच बैरोज ने परिभाषित किया
  16. गणितिय भूगोल के प्रारम्भकर्ता थेल्स को माना जाता  हैं
  17. क्षेत्रिय भूगोल के प्रणेता कार्ल रिटर को माना जाता हैं
  18. मैट्रोलोजिया नामक पुस्तक की रचना अरस्तु ने की थी
  19. "भूगोल पृथ्वी को केंद्र को मानकर अध्धययन करने वाला विद्वान है" यह कथन वारेनियस का है
  20.  भूगोल को एक अलग अध्धययन शास्त्र के रूप में स्थापित करने के श्रेय इरेटोस्थनीज को है
  21. "भूगोल भूतल का अध्ध्ययन है" यह कथन काण्ट का है
  22. पर्सपैक्टिव ऑन द नेचर ज्योग्राफी के लेखक हॉर्ट शोर्न हैं 
  23. "स्थलरूप संरचना पृकृम तथा अवस्था का प्रतिफल होता है" यह कथन वाल्टर पैंक का है
  24. 276 से 194 ई0 पू0 सर्वप्रथम भूगोल शब्द एवं पृथ्वी की परिधि का सही मापन ग्रीक विद्वान इरेटोस्थनीज ने किया था
  25. "यदि इतिहास कब का वैज्ञानिक अध्ध्ययन प्रस्तुत करता है तो भूगोल कहॉं का वैज्ञानिक एवं तार्किक अध्धययन करता है" यह कथन कार्ल साबर का है

Post a Comment

कमेंट करते समय कृपया अभद्र भाषा का प्रयोग ना करें, ये ब्लाग ज्ञान वर्धन के लिये है अत: अनुरोध है कि शालीन भाषा का प्रयोग करें तथा हमें अपने विचारों से अवगत करायें