Audio Notes

1857 के बाद हुए नागरिक विद्रोह [Audio Notes]

 1857 के बाद के विद्रोह(Revolt after 1857)

  • 1857 के विद्रोह के बाद भारत में और भी अनेक विद्रोह हुए जिनमें कुछ नागरिक विद्रोह थे कुछ आदिवासी तथा कुछ कृषक विद्रोह थे

 सन्यासी विद्रोह (Sanyasi Vidroh)

  •  यह 1763 ई. से 1800 ई. तक चला अंग्रेजो के द्वारा बंगाल के आर्थिक शोषण से जमींदार ,शिल्पकार, कृषक सभी नष्ट हो गये थे 1770 में यहाँ भीषण अकाल पडा और तीर्थ स्थानों पर जो आने जाने पर जो प्रतिबंधो से त्रस्त हो कर सन्यासियों ने विद्रोह कर दिया

चुआर विद्रोह(Chuar Vidroh)

  •  यह 1767 से 1772 तक तथा 1795 से 1816 तक दो कालो में हुआ अकाल और बढे हुए भूमि कर अन्य आर्थिक संकटों के कारण मिदनापुर जिले की एक आदिम जाति थी जो चुआर कहलाती थी उन लोगोने हथियार उठा लिए

कच्छ का विद्रोह(kacch ka vidroh)

  • 1819 में कच्छ के राजा भारमल को अंग्रेजो ने हठा के वहाँ का वास्तविक शासन एक अंग्रेज रेजीडेंट के अधीन प्रतिशासक परिषद को दे दिया इस परिषद द्वारा किये गये परिवर्तनों और अत्याधिक भूमि कर लगाने के कारण लोगों ने विद्रोह कर दिया और यहाँ 1831 में विद्रोह हो गया

बघेरा विद्रोह(Baghera Vidroh)

  •  यह बडौदा के गायकबाड ने अंग्रेजी सेना की सहायता लेकर लोगों से अधिक कर प्राप्त करने का प्रयास किया तो बघेरा सरदार ने 1818 और 1819 के बीच विद्रोह कर दिया

 सूरत का नमक आंदोलन (Surat Aandolan)

  • 1844 में सूरत में नमक कर आधा रुपया प्रति मन कर दिया गया 1848में सरकार ने एकमात्र नाप तौल लागू करने का भी निश्च्य किया लोगो ने बढे हुए नमक कर का दृढता पूर्वक बहिष्कार किया और अंत में सरकार को अपना फैसला वापस लेना पडा

रमौसी विद्रोह(Ramousi Vidroh)

  • पश्चिमी घाट के निवासी रमौसी जाति के लोगों ने अंग्रेजी शासन पध्दति से अप्रसन्न हो कर 1822,25,26 और 1829में विद्रोह कर दिया और सतारा के आस-पास के क्षेत्र को लूट लिया

कोलाहपुर तथा सामंतवाडी विद्रोह(Kolhapur Aur Samantvaadi)

  •  1844 ई. में कोलाहपुर राज्य के प्रशासनिक पुर्न:गठन होने के कारण काडकारी सैनिकों की छटनी कर दी गई
  • बेगारी का प्रश्न सम्मुख रख काडकारियों ने विद्रोह कर दिया इस प्रकार सामंतबाडियों ने भी मोपला विद्रोह कर दिया
  •  मोपला विद्रोह ग्रामीणवाद के आतंकवाद के विशिष्ट प्रकार थे जो उन मोपालों के हित में जैनियों की बढी हुई शक्ति को सीमित करने का सबसे प्रभावशाली साधन थे
  • 1836 से 1854 के बीच हुए 22 विद्रोहों ने जैनियों की सम्पति पर आक्रमण और उनके मन्दिरों को नष्ट कर दिया यह विद्रोही गरीब किसान व भूमिहीन श्रमिक होते थे
  • 1921 में अली मुसालियार के नेतृत्व में पुन: मोपला विद्रोह की चिंगारी उठी इस बार खिलाफत आंदोलनकारी और कास्तकार सम्मिलित रुप से अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ संघर्ष करने पर उतारु हो गये
  • विद्रोहियों ने कचहरी, थाना, खजाना अन्य सरकारी कार्यालयों विदेशी बगान मालिकों को अपना निशाना बनाया परंतु अंग्रेजी दमन चक्र के कारण 1921 के आते आते विद्रोह पूरी तरह कुचल दिया गया

पागलपंती विद्रोह (Pagalpanthi Vidroh)

  • यह 1840 और 1850में हुआ था ये अधार्मिक सम्प्रदाय था जिसे उत्तर बंगाल के कर्मशाह और उसके पुत्र टीपू मे आगे बढाया ये राजनितिक व धार्मिक प्रभावों से प्रभावित थे

फरैजी विद्रोह (Faraiji Vidroh)

  • यह 1838से 1857 तक हुआ फरैजी लोग सामाजिक,धार्मिक तथा राजनैतिक परिवर्तनों के प्रतिपादक थे तथा शरीयत उल्ला द्वारा चलाये गये सम्प्रदाय के अनुयायी थे
  • शरीयत उल्ला के पुत्र दादू मिया ने बंगाल से अंग्रेजो को निकालने की योजना बनायी ये विद्रोह जमींदारों के अत्याचारों के चलते 1838 से 1857 तक चलता रहा

ऑडियो नोट्स सुनें

Download File




Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top