UPSC, UPPSC, SSC में पूछे गये विज्ञान के प्रश्न | भाग 6

1519
2

हमारा YouTube Channel Subscribe कीजिये 

निम्नलिखित में से कौन सा धातु अर्धचालक की तरह ट्रांजिस्टर में प्रयोग होती है

  •  तांबा
  • जर्मेनियम
  • ग्रेफाइट
  • चांदी

जर्मेनियम

व्याख्या –  जर्मेनियम धातु का प्रयोग ट्रांजिस्टर में अर्धचालक के रूप में किया जाता है| तांबा का उपयोग बिजली के तार बर्तन और सिक्के बनाने में किया जाता है  ग्रेफाइट यह एक प्रकार का कार्बन है यह खोण्डा लाइट किस्म की चट्टानों में मिलता है यह पेंसिल की लेड बनाने के काम आता है चांदी वश में विद्युत की सबसे अच्छी सुचालक वह सफेद चमकदार धातु है इसका उपयोग सिक्के आभूषण बनाने सिल्वर ब्रोमाइड ( फोटोग्राफी) बनाने में किया जाता है |

 टरबाइन व डायनेमो से बिजली प्राप्त करने में किस ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करते हैं

  • रासायनिक ऊर्जा
  • सौर ऊर्जा
  • मेकेनिकल ऊर्जा
  • मैग्नेटिक ऊर्जा

मेकेनिकल ऊर्जा

व्याख्या – विद्युत जनित्र के द्वारा यांत्रिक ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में बदला जाता है विद्युत जनित्र का सिद्धांत विद्युत चुंबकीय प्रेरण पर आधारित है टरबाइन को जल की धारा से चलाकर विद्युत का उत्पादन किया जाता है | 

निम्नलिखित में से कौन सामान्य ताप पर द्रव है

  • सीसा
  • पारा
  • निकल
  • टिन

 पारा

व्याख्या – पारा का प्रयोग थर्मामीटर बनाने में, अमलगम बनाने आदि में किया जाता है प्रकृति में पानी को छोड़कर लगभग सभी धातुएं ठोस अवस्था में पाई जाती है पारा एक ऐसी धातु है जो द्रव अवस्था में पाई जाती है पारा सामान्य ताप पर द्रव है  विभिन्न छारीय धातु के सिलिकेटों अक्रिस्टलीय मिश्रण को काँच कहते हैं | 

निम्न में से सबसे सख्त कौन है

  • हीरा
  • ग्लास
  • क्वार्ट्ज़
  • प्लेटिनम

हीरा

व्याख्या –  हीरा कार्बन का शुद्ध रूप है यह ज्ञात पदार्थों में सबसे अधिक कठोर होता है यह पारदर्शक और विद्युत तथा ताप का कुचालक होता है यह बहुमूल्य रत्न माना जाता है हीरा का उपयोग शीशा काटने में किया जाता है क्वार्ट्ज़ और प्लेटिनम कठोर पदार्थ है कांच विभिन्न छारीय धातु के सिलिकेटों का अक्रिस्टलीय मिश्रण है साधारण कांच बनाने में सिलका विरंजक पदार्थ क्षारीय धातुओं के ऑक्साइड कैल्शियम ऑक्साइड आदि पदार्थों की आवश्यकता पड़ती है | 

निम्न में से किसे शुष्क बर्फ कहते हैं

  • डिहाइट्रेटेड बर्फ
  • पहाड़ों पर गिरने वाली प्राकृतिक बर्फ
  • ठोस कार्बन ऑक्साइड
  • ठोस कार्बन मोनोऑक्साइड

ठोस कार्बन ऑक्साइड

व्याख्या – कार्बन डाइऑक्साइड एक रंगहीन गंधहीन गैस है इसका जलीय विलयन अम्लीय होता है वायुमंडलीय दाब पर यह 78 डिग्री सेल्सियस ताप पर ठोस अवस्था में परिवर्तित हो जाती है जिसे शुष्क बर्फ कहते हैं शुष्क बर्फ का प्रयोग रेफ्रिजरेशन में किया जाता है कार्बन डाइऑक्साइड उच्चतर पर शीतल पेय पदार्थों के साथ बोतलों में भर दी जाती है आग बुझाने के लिए अग्निशामक यंत्र में इसका उपयोग किया जाता है रात के समय पेड़ पौधे कार्बन डाइऑक्साइड निकालते हैं ठोस कार्बन मोनोक्साइड एक जहरीली गैस है यह पर्यावरण के लिए हानिकारक है |

निम्न में से कौन सा पदार्थ साबुन बनाने में प्रयोग होता है

  • वनस्पति तेल
  • मोबिल तेल
  • किरासन तेल
  • कटिंग तेल

वनस्पति तेल

व्याख्या –  तेल और वसा में अंतर उनके गलनांको के आधार पर किया जाता है जिन ग्लिसराइडों का गलनांक 20 डिग्री सेल्सियस से अधिक होता है वह वसा कहलाते हैं |

वाहनों से निकलने वाली प्रदूषित गैस मुख्यत: है

  • कार्बन डाइऑक्साइड
  • कार्बन मोनोक्साइड
  • मार्स गैस
  • नाइट्रोजन ऑक्साइड

कार्बन मोनोक्साइड

व्याख्या –  मोटर वाहनों से निकलने वाले धुएं में मौजूद सीसे, कार्बन मोनोऑक्साइड तथा नाइट्रोजन ऑक्साइड के परिणाम स्वरुप आँख में एवं नाक में जलन होती है तथा श्वास संबंधी एवं फेफड़ों के रोग उत्पन्न हो जाते हैं शीतल रातों में कोहरे के समय धुआ, धूल, कार्बन और सीसे के कण वायुमंडल में तैरते हैं इस दशा को धूम कोहरा कहते हैं

खाना बनाने में प्रयोग की जाने वाली गैस मुख्यतः है

  • कार्बन डाइऑक्साइड
  • कार्बन मोनोऑक्साइड
  • मीथेन
  • नाइट्रोजन और ऑक्सीजन गैस मिश्रण

मीथेन  

व्याख्या – मीथेन एक रंगहीन गंधहीन एवं स्वादहीन गैस है यह गैस अधिकतर दलदली क्षेत्र में पाई जाती है जिसके कारण इसे ‘मार्श गैस’ भी कहा जाता है इसका प्रयोग मैथिल, एल्कोहल, क्लोरोफॉर्म, रंग, मोटर टायर, छापेखाने की स्याही, पेंट, कार्बन की छड़े आदि बनाने में किया जाता है |

डॉक्टरों द्वारा एनसथीसिया के रूप में प्रयोग होने वाली हास्य गैस है

  • नाइट्रोजन
  • नाइट्रोजन ऑक्साइड
  • नाइट्रस ऑक्साइड
  • नाइट्रोजन डाइऑक्साइड

नाइट्रस ऑक्साइड

व्याख्या –  डॉक्टर के द्वारा निश्चेतक का प्रयोग संवेदना को कम करने के लिए प्रयुक्त किया जाता है निश्चेतक का प्रयोग सबसे पहले विलियम मोरटन ने 1846 ईस्वी में डाई एथिल ईथर के रूप में किया था नाइट्रस ऑक्साइड का प्रयोग भी शल्प चिकित्सा के समय निश्चेतक के रूप में किया जाता है |

निम्न पदार्थों में से कौन सा पदार्थ खाने की वस्तुओं का परीरक्षण में प्रयोग होता है

  • साइट्रिक एसिड
  • पोटेशियम क्लोराइड
  • सोडियम बेंजोएट
  • सोडियम क्लोराइड

सोडियम बेंजोएट

व्याख्या – सोडियम बेंजोएट पदार्थ खाने की वस्तुओं की परीक्षा में प्रयोग होता है सोडियम क्लोराइड यह चट्टानों के रूप में  तथा समुद्र के पानी में पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है यह जल में विलेय होता है इसका मुख्य उपयोग खाने के रूप में करते हैं इसका उपयोग हिम मिश्रण बनाने में भी किया जाता है पोटेशियम क्लोराइड पोटेशियम का प्रमुख उर्वरक है साइट्रिक एसिड खट्टे फलों में पाया जाता है इसका उपयोग धातुओं को साफ करने खाद्य पदार्थ व दवाओं के बनाने में कपड़ा उद्योग में किया जाता है |

पेड़ व पौधों का खाना तैयार की प्रक्रिया कहलाती है

  • कार्बोहाइड्रोलिसिस
  • मोटाबोलिक सिंथेसिस
  • फोटोसेंसिटाइजेशन
  • फोटोसिंथेसिस

फोटोसिंथेसिस

व्याख्या – पौधे पर्णहरित और सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में पत्तियों के माध्यम से कार्बन डाइऑक्साइड ग्रहण करते हैं और कार्बन डाइऑक्साइड को कार्बन और ऑक्सीजन के रूप में विच्छेदित करते हैं यह कार्बन का उपयोग भोजन निर्माण में करते हैं तथा ऑक्सीजन को मुक्त कर देते हैं पौधे इसी क्रिया द्वारा अपने भोज्य पदार्थ तैयार करते हैं इसे प्रकाश संश्लेषण कहा जाता है पौधों में प्रकाश संश्लेषण शोषण और वाष्पोत्सर्जन की क्रिया पत्तों द्वारा ही होती है |

जैविक सिस्टम में रासायनिक क्रिया को प्रक्रिया को तेज करने में उत्तरदायी पदार्थ है

  • बैक्टीरिया
  • डीएनए
  • एंजाइम
  • प्रोटीन

एंजाइम

व्याख्या – जैविक प्रक्रिया में रासायनिक क्रिया की प्रक्रिया को तेज करने के लिए एंजाइम पदार्थ जिम्मेदार है कार्बनिक पदार्थों जैसे प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट तथा वसा को सरल अम्ल में परिवर्तित करने की क्रिया एंजाइम द्वारा ही संपन्न होती है इस प्रक्रिया में जल का अपघटन होता है|

निम्न में से किसकी कमी से मनुष्य में मधुमेह होता है

  • ग्लाइसीन
  • हीमोग्लोबिन
  • हिस्टेमीन
  • इंसुलिन

इंसुलिन

व्याख्या – इंसुलिन अग्नाशय की एक भाग ‘लैंगर हैंस की द्विपिका’ के द्वारा स्त्रावित एक प्रकार का हार्मोन है जो रक्त में शर्करा की मात्रा को नियंत्रित करता है इसके अल्पस्त्राव से मधुमेह या डायबिटीज नामक रोग हो जाता है इसके अतिस्त्राव से हाइपोग्लाइसीमिया नामक रोग हो जाता है इस रोग से जनन क्षमता तथा दृष्टि ज्ञान कम होने लगता है इसे ही इंसुलिन आघात कहते हैं

विटामिन जो खट्टे फलों में पाया जाता है तथा त्वचा को स्वस्थ रखने में जरूरी होता है

  • विटामिन ए
  • विटामिन बी
  • विटामिन सी
  • विटामिन डी

विटामिन सी

व्याख्या – विटामिन सी जल में विलेय विटामिन है इसका रासायनिक नाम एस्कार्बिक एसिड है इसकी कमी से स्कर्वी नामक रोग हो जाता है यह खट्टी रसदार फलों जैसे निंबू संतरा चीकू अम्ल तथा टमाटर आदि में पाया जाता है  |

मनुष्य शरीर में खून के शुद्धिकरण की प्रक्रिया को कहते हैं

  • डायलेसिस
  • हिमोलेसिस
  • ओसमोसिस
  • पैरालिसिस

डायलेसिस

व्याख्या – रक्त में पोषक तत्व अपशिष्ट दोनों पदार्थ होते हैं इन्हें विशेष विधि से छानकर अलग किया जाता है इस क्रिया में वृक्क का महत्वपूर्ण कार्य है जो उपयोगी पदार्थों को शरीर में रुककर रोककर अपशिष्ट पदार्थों को उत्सर्जित करता है महाधमनी की शाखा से रक्त वृक्कों में पहुंचता है कोशिका की विधि से रक्त छनता है अभिवाही धमनी रक्त में विषैली उत्सर्जी पदार्थ जैसे यूरिया यूरिक अम्ल आदि होते छने हुए रक्त में ग्लूकोज लवण तथा नाइट्रोजन के यौगिक मिलते हैं इस क्रिया को डायलिसिस कहते हैं |

फ्यूज का सिद्धांत है

  • विद्युत का रासायनिक प्रभाव
  • विद्युत का यांत्रिक प्रभाव
  • विद्युत का उष्मीय प्रभाव
  • विद्युत का चुंबकीय प्रभाव

विद्युत का उष्मीय प्रभाव

व्याख्या – फ्यूज का सिद्धांत विद्युत के उष्मीय प्रभाव पर काम करता है यह टिन और सीसा के मिश्र धातु से बना निम्न द्रवणांक और उच्च प्रतिरोधक शक्ति वाला तार है जिसका प्रयोग मुख्यतः विद्युत प्रतिष्ठापन को क्षतिग्रस्त होने से बचाने के लिए किया जाता है किसी कारणवश उच्च धारा प्रवाहित होने पर तार गलजाता है और विद्युत सर्किट भंग हो जाता है |

परमाणु के नाभिक में निम्न  कण होते हैं

  • प्रोट्रोन एवं न्यूट्रोन
  • इलेक्ट्रॉन एवं ए किरण
  • प्रोट्रोन एवं इलेक्ट्रॉन
  • इलेक्ट्रॉनिक एवं न्यूट्रॉन

प्रोट्रोन एवं न्यूट्रोन

व्याख्या – छठी शताब्दी ईसापूर्व में कणाद ऋषि ने बताया कि पदार्थ अत्यंत छोटे छोटे कणों से मिलकर बना होता है सन 1828 में जॉन डाल्टन ने पदार्थ की संरचना के संदर्भ में बताएं कि पदार्थ अत्यंत छोटे छोटे अविभाज्य कणों से मिलकर बना होता है जिसे परमाणु कहते हैं परमाणु केंद्र में एक नाभिक होता है जिसमें घनावेशित प्रोटोन व उदासीन न्यूट्रॉन उपस्थित रहते हैं ऋणावेशित कण तथा इलेक्ट्रॉन नाभिक के चारों ओर बंद कक्षाओं में चक्कर लगाते हैं  |

दोपहर के 12 बजे किस दिशा में इंद्रधनुष दिखाई देता है

  • पश्चिम में
  • दक्षिण में
  • पूर्व में
  • यह नहीं देख सकते

यह नहीं देख सकते

दाढ़ी बनाने के लिए काम में लेते हैं

  • अवतल दर्पण
  • समतल दर्पण
  • उत्तल दर्पण
  • इनमें से कोई नहीं

अवतल दर्पण

प्रकाश संश्लेषण होता है

  • रात्रि में
  • दिन में और रात्रि में
  • दिन में अथवा रात्रि में
  • केवल दिन में

केवल दिन में

व्याख्या – प्रकाश संश्लेषण क्रिया है और सूर्य के प्रकाश की उपस्थिति में ही संभव है अतः यह केवल दिन में ही होती है पत्तियों में छोटे रंध्र होते हैं जिनसे यह कार्बन डाइऑक्साइड के रूप में ग्रहण करते हैं कार्बन डाइऑक्साइड क्लोरोफिल और प्रकाश की उपस्थिति में पौधों के जल में घुल जाता है और कार्बनिक यौगिक तथा ऑक्सीजन के रूप में परिणत होता है इस क्रिया को स्वांगीकरण या प्रकाश संश्लेषण कहते हैं |

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here