UPSC, UPPSC, SSC में विज्ञान से पूछे गये प्रश्न | भाग 1

1835
1

UPSC, UPPSC, SSC में विज्ञान से पूछे गये प्रश्न | भाग 1


हमारा YouTube Channel Subscribe कीजिये 

किसी इलेक्ट्रॉनिक घड़ी में लोलक घड़ी के समतुल्य पुर्जा होता है

  • ट्रांजिस्टर
  • क्रिस्टलीय दोलित्र
  • डायोड
  • संतुलन चक्र

उत्तर – क्रिस्टलीय दोलित्र


तारे का रंग किस चीज का सूचक है

  1. सूर्य से दूरी का
  2. ज्योति का
  3. पृथ्वी से दूरी का
  4. उसके  ताप  का

उत्तर – उसके  ताप  का

व्याख्या तारे का रंग ताप का सूचक होता है वस्तुत है तारे चमकती गैसों के पिंड हैं जो गुरुत्वाकर्षण बल के कारण एक दूसरे से बंधे रहते हैं जो तारा जितना अधिक चमकीला होता है उसका जीवनकाल उतना ही कम होता है तारों की स्पेक्ट्रम से ज्ञात होता है जबकि तारों की दूरी ज्ञात करने के लिए प्रकाश वर्ष का प्रयोग किया जाता है |


बादल और वायुमंडल का तैरना किस कारण होता है

  • ताप के कारण
  • दाब के कारण
  • समुद्र से दूरी के कारण
  • श्यानता के कारण

उत्तर –  श्यानता के कारण

व्याख्या –  बादल और वायुमंडल भाग के छोटे-छोटे कणों से मिलकर बने होते हैं इन कणों का सीमांत वेग बहुत कम होता है जिससे वह वायु की दिशा में बह जाते हैं जिससे उनका समूह  तैरता हुआ  सा प्रतीत होता है  अतः बादल और वायुमंडल आकाश में श्यानता के कारण तैरते हुए प्रतीत होते हैं


क्रायोजेनिक यानी निम्नतापिकी  का अनुप्रयोग इन में से किसमें होता है

  • अंतरिक्ष यात्रा,  शल्य कर्म  एवं चुंबकीय प्रस्थापन में
  • शल्य कर्म चुंबकीय प्रस्थापन एवं दूरमिति में
  • अंतरिक्ष यात्रा कार्यक्रम एवं दूरमिति में
  • अंतरिक्ष यात्रा चुंबकीय प्रस्थापन एवं दूरमिति में

उत्तर – अंतरिक्ष यात्रा,  शल्य कर्म  एवं चुंबकीय प्रस्थापन में

व्याख्या –  क्रायोजेनिक विज्ञान की वह शाखा है जिनमें न्यूनतम उत्पन्न करने की विधियों का तथा निम्न ताप पर पदार्थ के गुणों का अध्ययन किया जाता है निम्नताप प्राय: द्रवित गैसों  के उपयोग द्वारा प्राप्त किया जाता है


मोती के मुख्य अवयव है

  • कैल्शियम  कार्बोनेट
  • ऐरागोनाइट  और कांचीयोलिन
  • अमोनियम सल्फेट और सोडियम कार्बोनेट
  • कैल्शियम ऑक्साइड और अमोनिया क्लोराइड

कैल्शियम  कार्बोनेट

व्याख्या –  मोदी का आवरण मुख्यतः रेशम का बना होता है कैल्शियम कार्बोनेट की प्रकृति में चूना पत्थर संगमरमर खड़िया आदि के रूप में काफी मात्रा में पाया जाता है जो सी पी के अंदर धीरे-धीरे एकत्रित होकर कड़ा रूप ले लेता है मोती मुख्यतया सीपी के जीवो द्वारा छोड़ा गया एक तरल पदार्थ होता है


लोहे में जंग को रोकने के लिए उपयोग किया जाता है

  •  जिंक
  • मैग्नीशियम
  • क्लोरीन
  • तांबा

जिंक

व्याख्या-  आर्द्र वायु के संपर्क में आने से लोहे के ऊपर लाल रंगी एक पीली परत जम जाती है जिसे जंग कहा जाता है इसे रोकने के लिए लोहे के ऊपर जस्ते की परत चढ़ाई जाती है जिसे गैलवेनाइज्द कहा जाता है जिससे लोहे का संपर्क ऑक्सीजन से नहीं हो पाता और उसमें जंग नहीं लगती


 विश्व में उपयोग में लाई जाने वाली प्रथम धातु थी

  • तांबा
  • सोना
  • चांदी
  • लोहा

तांबा

व्याख्या – मानव द्वारा पत्थर के बाद सर्वप्रथम जीवन यापन हेतुतांबे का उपयोग किया गया सर्वप्रथम इसका प्रयोग करीब 5000 ईसापूर्व में किया गया वस्तुतः तांबा धरातल के ऊपरी परत पर पाया जाता है तथा वह श्रद्धा से नदियों के निच्छालन  से  भी प्राप्त कर लिया जाता है इसलिए इसका प्राप्त होना सरल था जिसका उपयोग पाषण कालीन मानव ने कुल्हाड़ी बनाने दरेती बनाने आदि में किया


निम्न में से कौन सा पायसी कारक है

  • साबुन
  • जल
  • तेल
  • सोडियम क्लोराइड

साबुन

व्याख्या –  जब किसी क्लोराइड में एक द्रव्य के सारे कण दूसरे द्रव्य के सारे कणों में  परिक्षेपित  तो हो जाते हैं लेकिन  घुलते नहीं हैं इस  कोलाइड को पायस इमल्सन कहा जाता है सबसे बड़े पैमाने पर पायसी कारक के रूप में साबुन और डिजरजेंट का प्रयोग किया जाता है इनकी पायासीकरण की प्रक्रति कपड़ों को धोने में सहायता करती है पायासीकारकों का प्रयोग उद्योगों में अयस्कों के सांद्रण के लिए भी किया जाता है |


बोतल का दूध पीने वाले बच्चे की तुलना में मां का दूध पीने वाले बच्चे में निम्नलिखित में से कौनसे विशिष्ट लक्षण होते हैं

  वह दीर्घकाय नहीं होगा

उसमें रोगों की प्रतिरोधक क्षमता अधिक होगी

उसमें विटामिन और प्रोटीन अधिक मिलते हैं

 उसकी लंबाई में असामान्य वृद्धि होगी

  • 1, 2 और 3
  • 1, 2 और 4
  • 1, 3 और 4
  • 2, 3 और 4

1, 2 और 3

व्याख्या –  मां का दूध अपने आप में संपूर्ण आहार माना जाता है इसमें एक विशेष प्रकार का प्रोटीन पाया जाता है जिसे जीएलए कहा जाता है जो शिशु के लिए महत्वपूर्ण होता है जबकि बोतल का दूध इस तत्व से रहित होता है और जो बच्चा बोतल के दूध का उपयोग करता है उसमें रोग प्रतिरोधक क्षमता और विटामिन तथा प्रोटीन की कमी पाई जाती है जिससे उसका पूर्ण शारीरिक तथा मानसिक विकास नहीं हो पाता है


किस प्राणी के प्लाज्मा में हीमोग्लोबिन का विलय हो जाता है

  • मेंढक
  • मत्स्य
  • मानक
  • केंचुआ

केंचुआ

व्याख्या –   केंचुआ  ऐनीलिडा संघ का प्राणी है जिसका प्लाज्मा हीमोग्लोबिन  में विलयित हो जाता है  केचुए को किसान का मित्र भी कहा जाता है यह मिट्टी को खा कर मल के रूप में फास्फोरस युक्त मृदा निकालता है जिससे भूमि की उर्वरा शक्ति बढ़ जाती है


 किस प्राणी के प्लाज्मा में ब्लड सस्पेंडेड होता अथवा बनता है

  • मानव
  • मेंढक
  •  इंसेक्ट
  • स्यूडोमोनास

मेंढक

व्याख्या –  मेंढक के प्लाज्मा में ब्लड सस्पेंडेड होता हुआ बनता है  मेंढक एम्फीबीया वर्ग का प्राणी है  इस  वर्ग के प्राणी उभयचर होते हैं  यह असमतापी होते हैं  इसमें श्वसन क्लोंमों  त्वचा एवं फेफड़ों द्वारा होता है इस  वर्ग के जीवो के हृदय  3  वॉल्व  के होते हैं  जिसमें दो आलिंद और एक निलय होते हैं


पक्षी उड़ने के समय इधर उधर करने के समय गिरने लगता है जिसे रोकता है

  • पंखों को सिकुड़ा कर
  • पंखों को फैलाकर
  • पंखों को ऊपर नीचे कर
  • हवा के साथ उड़ कर

पंखों को फैलाकर

व्याख्या –  पक्षी उड़ने के समय इधर-उधर करने के कारण गिरने लगता है किंतु वह अपने पंख फैलाकर संतुलन बना लेता है जिससे उसका गिरना रुक जाता है


मनुष्य के शरीर में रक्त का कौन सा भाग रोगों का प्रतिरोध करता है

  • आर. बी. सी.
  • डब्ल्यू. बी. सी.
  • सी. प्लाज्मा
  • वसा

डब्ल्यू. बी.सी.

व्याख्या –  मनुष्य की श्वेत रुधिर कोशिकाओं में हीमोग्लोबिन नहीं होता इसलिए यह रंगहीन होते हैं तथा इनकी संख्या कम होती है  एक स्वास्थ्य मनुष्य के रुधिर में इतनी संख्या 6000  से  9000 रति क्यूबिक मिलीमीटर तक होती है परंतु रोग की अवस्था में इनकी संख्या अधिक हो जाती है इसका निर्माण अस्थि मज्जा,  लिंफनोड  में होता है इनका जीवनकाल 4 दिन का होता है इनकी मृत्यु रक्त कोशिकाओं में ही हो जाती है वस्तुतः श्वेत रक्त कण शरीर में उत्पन्न रोगों का प्रतिरोध उत्पन्न करता है


श्वसनांग से संबंधित बीमारी है

  • बेरी बेरी
  • कोलाइन
  • अर्थराइटिस
  • इंफ्लुएंजा

इंफ्लुएंजा

व्याख्या-  इंफ्लुएंजा वायरस के संक्रमण से होने वाला संक्रमण रोग है इसे फ्लू भी कहते हैं इसमें सारे शरीर में दर्द के साथ जुकाम भी होता है गले में सूजन, छींक,  बेचैनी से दर्द भी रहता है सावधानी बरतने पर यह 1 सप्ताह में ठीक हो जाता है लेकिन यदि इसका सही ढंग से उपचार नहीं किया गया तो ब्रोंकाइटिस नामक बीमारी होने का भय रहता है


उचित नीति से कटे हीरे की असाधारण चमक का आधारभूत कारण यह है कि

  • उसमें अति उच्च पारदर्शिता होती है
  • उसका अति उच्च अपरवर्तन सूचकांक होता है
  • वह बहुत कठोर होता है
  • उसके सुनिश्चित विदलन तल होते हैं

उसका अति उच्च अपरवर्तन सूचकांक होता है

व्याख्या –  हीरे का अपवर्तनांक बहुत अधिक होता है जिस कारण इसका आयतन कोण क्रांतिक कोण से बड़ा होता है इससे इसके अंदर प्रवेशित प्रकाश का पूर्ण आंतरिक परावर्तन होता है जो हीरे की चमक का आधारभूत कारक है


प्रकाश की गति किसके बीच से जाते हुए न्यूनतम होगी

  • कांच
  • निर्वात
  • जल  
  • वायु

कांच

व्याख्या –  कांच. निर्वात जल तथा वायु में से कांच में प्रकाश का वेग सबसे कम होगा निर्वात में प्रकाश का वेग 300000 किलोमीटर से वायु में 2.5 लाख किलोमीटर से जल में 2.25 लाख किलोमीटर से और कांच में 200000 किलोमीटर से होता है


किसी अपारदर्शी वस्तु का रंग उस रंग के कारण होता है जिसे वह

  • अवशोषित करता है
  • अपरिवर्तित करता है
  • परावर्तित करता है
  • प्रकीर्ण करता है

परावर्तित करता है

व्याख्या –  किसी अपारदर्शी वस्तु के रंग का निर्धारण, उस पत्तों के द्वारा परावर्तित किए गए प्रकाश के रंग द्वारा होता है अर्थात कोई वस्तु सूर्य के सात  रंगों के प्रकाश में जिस रंग को सबसे अधिक परावर्तित करती है  वही उस वस्तु का रंग होता है ज्ञात है कि नीले रंग के प्रकाश का  प्रकीर्णन सर्वाधिक होने के कारण हमें आकाश नीला दिखाई देता है प्रकाश का अवशोषण हो जाने पर वस्तुएं हमें काली दिखाई पड़ती हैं जबकि प्रकाश के पूर्ण आंतरिक परावर्तन के कारण  वस्तुएं हमें चमकदार दिखाई देती है जैसे हीरा


सामान्यतया स्त्रियों की आवाज का तारत्व है

  • पुरुषों की तुलना में अधिक होता है
  • पुरुषों की तुलना में मामूली कम होता है
  • पुरुषों की तुलना में बहुत कम होता है
  • उतना ही होता है जितना पुरुषों की आवाज का

पुरुषों की तुलना में अधिक होता है

व्याख्या –  सामान्य  स्त्रियों की आवाज का तारत्व पुरुषों की तुलना में अधिक होता है जिसके कारण स्त्रियों की आवाज पतली तथा मधुर होती है


पानी से भरी डाट लगी बोतल जमने पर टूट जाएगी क्योंकि

  • जमने पर बोतल से सिकुड़ती है
  • जमने पर जल का आयतन घट जाता है
  • ज़मने  पर जल का आयतन बढ़ जाता है
  • कांच ऊष्मा का कुचालक है

ज़मने  पर जल का आयतन बढ़ जाता है

व्याख्या –  पानी के ज़मने  पर उसका आयतन बढ़ जाता है फलस्वरूप पानी से भरी डाट लगी बोतल जमने पर टूट जाती है

SHARE

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here