प्रागैतिहासिक कालीन संस्कृति एवं विशेषताएं

प्रागैतिहासिक कालीन संस्कृति एवं विशेषताएं

काल

संस्कृति के लक्षण

मुख्य स्थल

महत्व उपकरण एवं विशेषताएं

निम्न पुरापाषाण काल शल्क, गंडासा, खंडक, उपकरण, संस्कृति पंजाब, कश्मीर, सोहन घाटी, सिंगरौली घाटी, छोटा नागपुर, नर्मदा घाटी, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश हस्त कुठार एवं वाटिकाश्म उपकरण, होमो इरेक्टस के अस्थि अवशेष नर्मदा घाटी से प्राप्त हुए हैं |
मध्य पुरापाषाण काल खुरचनी, वेधक संस्कृति नेवासा (महाराष्ट्र), डीडवाना (राजस्थान), भीमबेटका (मध्य प्रदेश) नर्मदा घाटी, बाकुंडा, पुरुलिया (पश्चिम बंग) फलक, बेधनी,  भीमबेटका से गुफा चित्रकारी मिली है |
उच्च पुरापाषाण काल फलक एवं तक्षिणी संस्कृति बेलन घाटी, छोटा नागपुर पठार, मध्य भारत, गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश प्रारंभिक होमोसेपियंस मानव का काल, हार्पून,  फलक एवं हड्डी के उपकरण प्राप्त हुए |
मध्य पाषाण काल सुक्ष्म पाषाण संस्कृति आदमगढ़, भीमबेटका (मध्य प्रदेश), बागोर (राजस्थान), सराय नाहर राय (उत्तर प्रदेश) सूक्ष्म पाषाण उपकरण बढ़ाने की तकनीकी का विकास, अर्धचंद्राकार उपकरण, इकधार फलक, स्थाई निवास का साक्ष्य पशुपालन |  
नवपाषाण काल पॉलिश्ड़ उपकरण संस्कृति बुर्जहोम और गुफ्कराल लंघनाज(गुजरात), दमदमा (कश्मीर), कोल्डिहवा (उत्तर प्रदेश), चिरौंद (बिहार), पौयमपल्ली (तमिलनाडु), ब्रह्मगिरि, मस्की (कर्नाटक) प्रारंभिक कृषि संस्कृति, कपड़ा बनाना, भोजन पकाना, मृदभांड निर्माण, मनुष्य स्थाई निवास बना, पाषाण उपकरणों की पॉलिश शुरू, पहिया, अग्नि का प्रचलन |

 


Download Notes in English For All Competitive Exams
* विषयवार नोट्स * डाउनलोड्स * सवाल जवाब * विडियो*

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here